Tag Archives: ज़ख्म

ज़ख्म तो भर गया मगर

रब की तो मेहरबानि-ओ-इनायत बनी रही। हमसे जमाने को मगर शिकायत बनी रही।। Advertisements

Posted in ग़ज़ल | Tagged , , , , | Leave a comment